झाँकियाँ

जिसका भी जी चाहे कह ले
-ऐसे नहीं कभी थे पहले:

खेत सुनहले।
खेत सुनहले…

अंगराग बन गई कि जो थी अब तक धूल,
नाच रहे जैसे पहने रंगीन दुकूल:

नीले फूल।
नीले फूल…

इतनी ताज़ी जैसे अभी उगी कल-परसों,
मन में बसी रहेगी जाने कितने बरसों:

पीली सरसों।
पीली सरसों…

मेरी और तुम्हारी क्या, बौराये साधू और महन्त,
होठों पर उभरे सेनापति और प्रसाद, निराला, पन्त:

स्वागत हे ॠतुराज वसन्त।
स्वागत हे ॠतुराज वसन्त…

Leave a Reply