क्या कहेंगे लोग

क्या कहेंगे लोग¸

कहने को बचा ही क्या?

यदि नहीं हमने¸

तो उनने भी रचा ही क्या?
उंगलियां हम पर उठाये–कहें तो कहते रहें वे¸

फिर भले ही पड़ौसों में रहें तो रहते रहे वे।

परखने में आज तक¸

उनको जंचा ही क्या?
हैं कि जब मुंह में जुबानें¸ चलेंगी ही।

कड़ाही चूल्हों–चढ़ी कुछ तलेंगी ही।

मुद्दतों से पेट में–

उनके पचा ही क्या?
कहीं हल्दी¸ कहीं चंदन¸ कहीं कालिख¸

उतारू हैं ठोकने को दोस्त दुश्मन सभी नालिश

इशारों पर आज तक

अपने नचा ही क्या?

Leave a Reply