इन-उनकी

रहते आए
जनम जनम से
अमलदारियों में इन-उनकी
रंग, रूप, खुशबू की खातिर
खिले क्यारियों में इन-उनकी।

हाल पूछते हो क्या अपने?
आते नहीं नींद में सपने
रातें रहीं बदलती करवट
बेकरारियों में इन-उनकी।

अपने करे धरे पर पानी
फेर रहे हैं वो लासानी
नाचा किए विवश हो होकर,
हम नचारियों में इन-उनकी।

बिना पोस्टर के विज्ञापित
बिकने को हैं हम अभिशापित
दबे हुए हैं जाने कब से
हम बुखारियों में इन-उनकी।

Leave a Reply