पांचों घी में

उनकी

टेढ़ी या सीधी हों,

लेकिन हैं पांचों ही घी में
रहे छीजते अपने ही ग्रह,

और नखत ये धीमें धीमें

जिसको जो भी मिला ले उड़े, खुरपी टेढ़े बेंट आ जुड़े

होना था जिनको आधा वो एक रात में हुए डेवढ़े

होने को-

क्या शेष रह गया

कर लो जो भी आये जी में
मान-मूल्य सब हुये तिरोहित, सब ही अपने हुये पुरोहित

पन्नों में ही लिखे रह गये, शुभ की सायत और महूरत

धरे रह गये

मयनोशी के

अदब-कायदे और करीने
अपने राम पड़े सांसत में, कहां रहें अब, किस भारत में?

एक एक से बढ़कर प्राणी, जगह पा गये हैं गारद में

फर्क नहीं-

कर पाता हूं मैं,

अपने लेखे ग़लत सही में

उनकी क्या पूछो हो साधो!

जिनकी हैं पांचों ही घी में।

Leave a Reply