अकेले कंठ की पुकार

गीत जो मैंने रचे हैं
वे सुनाने को बचे हैं।

क्योंकि-
नूतन ज़िन्दगी लाने,
नई दुनिया बसाने के लिए
मेरा अकेला कंठ–स्वर काफ़ी नहीं है।
–इस तरह का भाव मुझ को रोकता है।
शून्य, निर्जन पथ, अकेलापन :
सभी कुछ अजनबी बन-–
मुखरता मेरी न सुनता
–टोकता है ।

इसलिए मुझ को न पथ के बीच छोड़ो
बेरुखी से मुँह न मोड़ो,
हो न जाऊँ बेसहारे ,
इसलिए तुम भूलकर वैषम्य सारे –
तालु–सुर–लय का नया सम्बन्ध जोड़ो।
ओ प्रगतिपन्थी । ज़रा अपने कदम इस ओर मोड़ो ।

राग आलापो, बजाओ साज़ ,
कुछ ऊँची करो आवाज़ –
मेरा साथ दो।
यह दोस्ती का हाथ लो।
फिर मैं तुम्हारे गीत गाऊँ,
और तुम मेरे:
कि जिससे रात जल्दी कट सके ,
यह रास्ता कुछ घट सके

हम जानते हैं:
विगह–दल तक साथ देंगे
भोर होते ही, उजेरे… मुँहअंधेरे।

Leave a Reply