यादों में

एक उदास गंध है
सूख कर झरे सपनों की
दरख़्त के

खुशबू के रँगों की
यादों में
डूबा है जो।

Leave a Reply