मेरी तरह

सीने में गहरे
सूखी धरती के
बहती रहती है जलधार

सदा बसा रहता है
अपनी स्मृतियों में
उजाड़

आकाश के कानों में
गूँजा ही करती सब समय
सन्नाटों की पुकार

इन सबने क्या
मेरी तरह
किया था कभी
तुम से प्यार?

Leave a Reply