कविता सुनाई पानी ने-7

छैनी की हर चोट
छील देती है मुझको
और उभार देती है
रूप तुम्हारा

तुम्हारा रूप है जो
छिलना है मेरा ।

Leave a Reply