पूरा घर बिखर गया है शान्तनु

तुम्हें बीननी थीं हमारी अस्थियाँ
अब हम ही चुन रहे हैं तुम्हारी
पूरा घर बिखर गया है शान्तनु !

छोटी-सी पोटली में
अपने सपनों की राख लिए पिता
बैठे हैं चुपचाप तुम्हें गोद में उठाये

बिलखते हैं हम रह-रहकर
निहत्थे हो जाते हैं
डाल से टूटे पत्ते की तरह

Leave a Reply