माँ रो रही है शान्तनु!

माँ रो रही है शान्तनु!
वह मानती ही नहीं कि तुम नहीं हो
उसे हम दिलासा नहीं दे पा रहे
तुम्हारा काम हम में से किसी को नहीं आता

कैसे समझें और समझाएँ उसे
कि अब कुछ नहीं होगा रोने से
आँसुओं के पानी में बही चली जा रही
हमारी ही बोली होंठों पर आकर
न जाने क्यों सूख जाती है शान्तनु!

Leave a Reply