बुढ़ापा

बासठ के हो गए हो
झुर्रियाँ देखी हैं आईने में कभी?

अब भी स्नो-पाउडर लगाते हो
नहीं रही वो तुम्हारी गोरी चिट्टी शकल

खाँसते बहुत हो
अब ये सिगार फूँकना बंद कर दो
सब कहने लगे हैं–
गंजा आ गया गंजा आ गया

Leave a Reply