पाताल की रातें

वो हिज्र कि रातें वो विसाल कि रातें
रोज़ की तरह तन्हा-ऐ-हाल कि रातें

डूब जाएँ या फिर, बह जाएँ ये कहीं
ना मिले इस तरह की बवाल की रातें

चाँद जा गिरा है कहीं दरिये में किसी
बेनूर-सी ये, फिजूल कमाल की रातें

हुआ मैं बेकल मिरी उलझनों में यारो
कहाँ से लाऊँ अब, एतिदाल की रातें

हर शय अब खुद ही खेलता है काफ़िर
कहाँ आसमा कहाँ ये पाताल की रातें

Leave a Reply