नींद के तालाब में डूब रहा हूँ!

नींद के तालाब में
डूब रहा हूँ
एक कतरा कुरेदा
तो भँवर आ गया
अब ये सर नहीं
जाता उसकी गहराई में

हथेली जो
छप से मारता हूँ
पानी के सीने में तो
उछल के मुँह तक
आता है !
मगर, सर अन्दर
नहीं जाता
भीगता भर है

मुँह पर सूखी बूँदों के
दाग बन जाते हैं
मिट भी जाते हैं

सारी रात ये
उथल-पुथल चलती है
पर नींद नहीं आती
यह गहरी तो बहुत है
मगर मेरी नींद में
शायद……..
पत्थर तैरता रहता है !

Leave a Reply