धीर! अपने ही दामन को, बेदाग़ बनाना है!

धीर! अपने ही दामन को, बेदाग़ बनाना है,
फिर जा के ज़माने को आईना दिखाना है!

अब तेरी मुहब्बत भी इक भूला फ़साना है, [क़ता]
इक बंद लिफ़ाफ़ा है, इक ख्वाब पुराना है!

अब मुझ से, बता तू ही! उम्मीद-ए-वफ़ा कैसी?
वो और ज़माना था, ये और ज़माना है!

उस अब्र को सावन भी, दरकार भला क्यों हों,
दामन जो भिगोता है,आंखों में ठिकाना है!

वो तीर-ए-नज़र तेरा, ये चाक-ए-जिगर मेरा,
खतरे हैं बहुत लेकिन,ये खेल सुहाना है!

क्यों हर्फ़-ए-नसीहत को, अब कोई नहीं सुनता?
बाबा! ये ज़माना क्या पहले से सयाना है?

Leave a Reply