दरख़्त

गुलेल हैं
कुछ

कुछ
पत्थर हैं

इशारे हैं कुछ
लोग

फ़क़त दरख़्त
हूँ मैं

सनसनाते पत्थर
तार-तार कर रहे हैं
पत्ते मेरे
लहूलुहान है
माथा मेरा

चिड़ियों को
आकाश देने के लिए
पेड़ होना बहुत
ज़रूरी है

Leave a Reply