आत्मा की गुल्लक

तुम तो मुझे भूल चुकी होगी
विस्मृति के बाज़ार में
मैं अब तक नहीं भूला हूँ तुम्हें
मेरे पास आख़िरी सिक्का है
याद का
जिसे हर दुर्दिन में सम्भाल कर
रखा है मैंने

हालाँकि सिवनी मालवा में मुझे
अब कोई याद नहीम करता
सचमुच ऎसा ही लगता है
जैसे शून्य हो ब्रह्माण्ड
ज़िन्दगी में कभी खर्च का नहीं
सोचा इस सिक्के को
सुना है ऎसी मुद्राएँ
अब चलन से बाहर हो रही हैं

Leave a Reply