अजोध्या से गुजरात

खो गई है किसी की गाड़ी
और किसी का गन्तव्य
किसी को पता नहीं है मंज़िल का
कोई मंज़िल की आस में बैठा है उनींदा
कोई सब कुछ गंवाकर
बढ़ रहा है नई शुरूआत की तरफ़
एक है जिसने भर लिया है घड़ा
खिसका रहा है कोई अपने ही
बेबस साथी की पोटली
महिला बोगी में बैठी वह
आँसुओं से नहला रही है अंधकार को

इस ट्रेन में दो स्वप्न मिल गए हैं
जो लम्बी यात्रा पर जाना चाहते हैं

इन सबकी यात्राओं के बीच
जो भी है कूड़ा-करकट उनको
बुहार लेना चाहते हैं कुछ
बेहद कोमल हाथ और बेहद निश्छल मन से
गुजरात से अजोध्या
अजोध्या से गुजरात
इन सबको भी स्थान दो भाई

Leave a Reply