बोआई का गीत

गोरी-गोरी सौंधी धरती-कारे-कारे बीज
बदरा पानी दे !

क्यारी-क्यारी गूंज उठा संगीत
बोने वालो ! नई फसल में बोओगे क्या चीज ?
बदरा पानी दे !

मैं बोऊंगा बीर बहूटी, इन्द्रधनुष सतरंग
नये सितारे, नयी पीढियाँ, नये धान का रंग
बदरा पानी दे !

हम बोएंगे हरी चुनरियाँ, कजरी, मेहँदी –
राखी के कुछ सूत और सावन की पहली तीज !
बदरा पानी दे !

Leave a Reply