है उजालों के सिलसिले हर-सू

हैं उजालों के सिलसिले हर-सू
‘दीप खुशियों के जल उठे हर-सू’

आँगन-आँगन में अल्पनाएँ हैं
आस के फूल खिल गये हर-सू

द्वार- आँगन हैं दीपमालाएँ
कहकशाँ-सी दिखाई दे हर सू

जैसे लौटे थे राम अयोध्या में
आज वैसा ही कुछ लगे हर-सू

जिनकी परदेस में है दीवाली
उनको अपना ही घर दिखे हर-सू

मुँह छिपाता फिरे है सन्नाटा
हैं पटाख़ों के क़हक़हे हर-सू

कौन गुज़रा है दिल की गलियों से
हैं चिराग़ों के क़ाफ़िले हर-सू

क्यों न हो आज नूर की बरखा
जब इबादत में हैं दिये हर-सू

काश हो ज़िन्दगी भी दीवाली
नूर की इक नदी बहे हर सू

Leave a Reply