सदा आती है ये अक्सर तड़प के मेरे सीने से

सदा आती है ये अक्सर तड़प के मेरे सीने से                                                                                                                तेरे क़दमों में दे दूं जां जुदा रहकर के जीने से

मोहब्बत के मुसाफिर को कभी मंजिल नहीं मिलती                                                                                                            जिसे  साहिल  की  हसरत  है  उतर  जाए  सफीने से

मोहब्बत जो भी करते हैं बड़ी तकदीर वाले हैं                                                                                                                चमक जाती हैं तकदीरें मोहब्बत के नगीने से

तेरी यादों के  जुगनू  हैं  तेरी खुशबू  हे  साँसों  में                                                                                                          यही मोती मिले मुझको मोहब्बत के खजीने से

किसी आशिक की तुर्बत पे ग़ज़ल मैंने पढी हसरत                                                                                                              मुक़र्रर  की   सदा  आई  अचानक  उस  दफीने  से

Leave a Reply