आँखों में भरे खूँ लिए तलवार खड़ा है

   आँखों में भरे खूँ लिए तलवार खड़ा है
   करने को मुझे क़त्ल मेरा यार खड़ा हे
             दे दे तू मुझे अपने दुआओं का सहारा
            चोखट पे तेरी आज ये बीमार खडा हे
जाने दे मुझे मोंत की आगोश में हमदम
क्यों बनके  मेरी राह में दीवार खडा हे
           मर कर ही सही आज ये एजाज़ मिला तो
           करने को मेरा आज वो दीदार खडा हे
गर मुझको मिटाने का वो रखते हैं इरादा
हसरत भी फना होने को तैयार खडा हे

One Response

  1. Sunil Shwet 29/05/2012

Leave a Reply