कै बिधि कँचनगार सिंगार कै दीने बनाय अनूपम रंग के

कै बिधि कँचनगार सिंगार कै दीने बनाय अनूपम रंग के ।
कै कदली उलटी ह्वै विराजत कै करि शुँड दिखात उमँग के ।
ऐसी लसैँ उपमा तिनकी द्विज भाषत है इमि पाय प्रसंग के ।
प्राण प्रिया के सुराजत ये दोऊ जँग किधौँ हैँ निषँग अनँग के ।

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply