ख़ुदा की बन्दगी मैंने न सुब्‍ह की न शाम की

ख़ुदा की बन्दगी मैंने न सुब्‍ह की न शाम की
तुम्हें तलाशते हुए ये ज़िन्दगी तमाम की

नज़र मिला के एक पल वो शख़्स आगे बढ़ गया
न ख़ैरियत ही पूछी कुछ न रस्मिया सलाम की

अभी तो आप देखिए मेरे हुनर की इब्तिदा
अभी न बात छेड़िए ख़ुदारा इख़्तिताम की

उसे किसी भी ख़ास की न चाहिए रिआयतें
सभी के वास्ते फ़क़ीर ने दुआ-ए-आम की

उठा रहा जो बार-बार अपना हाथ बज़्म में
उसे भी ग़ौर से सुनो कहे वो बात काम की

Leave a Reply