क़लम ये हाथ में मैंने न गर लिया होता

क़लम ये हाथ में मैंने न गर लिया होता
तो अंजुमन में तुम्हारी अदब का कया होता

ख़ुदापरस्तों की मस्ज़िद में बन्दगी के लिए
न होते हम तो कोई दूसरा ख़ुदा होता

ज़माने भर के ग़मों को बसा लिया हमने
न होता दिल ये कहाँ उनका आसरा होता

लबों पे नाम तुम्हारा न भूलकर लाते
तुम्हारे जैसा हमें गर कोई मिला होता

दरख़्त होके मेरे दिल में रह गई हसरत
सफ़र में चार क़दम राह के चला होता

Leave a Reply