सपनों की दुनिया-3

यदि कभी कोई / एक मोहक-सा सपना
तैर भी जाता है अनायास / हमारी आँखों में
क्यों फिर उसे / सहेजना. संभालना और ले आना
हमारी इस जागती दुनिया में / होता है मुश्किल
अवचेतन से चेतन की यात्रा में
क्यों खो जाते हैं हमारे सन्दर सपने?

Leave a Reply