यह अकाल इन्द्रधनुष

चलो चलें हो लें, धन खरियों के देश
धान परियों के देश ।

आगे-आगे पछुवा
पीछे पुरवाई,
बादल दो बहनों के
बीच एक भाई,

बरखा के वन, तड़ित-मछरियों के देश
जल लहरियों के देश ।

घिर आया धरती का
रंग आसमानी,
गेहुवन-सा ठनक रहा
सरिता का पानी,

पानी पर लोटती गगरियों के देश
जल-गगरियों के देश ।

धूप-पत्र डाल गया
दिन का हरकारा,
यह अकाल इन्द्रधनुष
आगमन तुम्हारा,

आम के बहाने मंजरियों के देश
गिलहरियों के देश ।

Leave a Reply