अन्धेरे की व्यथा

झर रही हैं पत्तियाँ
झरनों सरीखी
स्वर हवा में तैरता है ।

यहाँ कोई फूल था
शायद यहीं इस डाल पर
तुमको पता है ?

ख़्वाहिशों की इमारत थी
ढह गई है,
ज़िन्दगी अख़बार होकर
रह गई है,

साँस है
या बाजरे का बीज
कोई पेरता है ।

हड्डियों का पुल
शिराओं की नदी है,
इस सदी से भी
अलग कोई सदी है,

आज की कविता
अँधेरे की
व्यथा है ।

Leave a Reply