मेरे दिमाग़ का एक डर मेरी तलाश में है

मेरे दिमाग़ का एक डर मेरी तलाश में है ।
बहुत दिनों से मेरा घर मेरी तलाश में है ।

मैं जिसकी आँख का पानी रहा वही मुझको,
नज़र से अपनी गिराकर मेरी तलाश में है ।

मैं भाग जाऊँ कहाँ छोड़-छाड़ के दुनिया,
कि अब तो फ़ोन प दफ़्तर मेरी तलाश में है ।

मैं किस के नाम प रोऊँ मैं किस को दूँ इल्ज़ाम,
मेरे ही हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है ।

न नींद है न कोई ख़्वाब आरज़ू न कोई थकन
तो क्यों ये ज़िस्म का बिस्तर मेरी तलाश में है ।

बदल गया है ज़माना बदल गई तस्वीर,
मेरे लठैत का जांगर मेरी तलाश में है ।

मैं नींद-नींद छिपा फिरता ख़्वाब-ख़्वाब मगर,
वो एक ख़बर-सा बराबर मेरी तलाश में है ।

जिसे ’क़िताब के बाहर’ तलाश मैंने किया,
वही हयात के बाहर मेरी तलाश में है ।

Leave a Reply