बुजुर्गी बचपना काला न कर दे

बुजुर्गी बचपना काला न कर दे।

कहीं गंगा हमें मैला न कर दे।
अंधेरे को ज़रा महफ़ूज रखिए

ये मनबढ़ रौशनी अंधा न कर दे।
सफ़र दुश्वार कर देंगे ये आँसू

तू मेरा रास्ता आसान कर दे।
तुम्हारे इल्म का चमकीला दर्पण

मेरे चेहरे को बे-चेहरा न कर दे।
मुझे अवहेलना चर्चा में लाई

बड़ाई सब कहीं उल्टा न कर दे।
ये चुप्पी दिग्विजय करने चली है

ख़मोशी बीच में हल्ला न कर दे।
इसे महफ़ूज रखिए दिल तलक ही

मोहब्बत जेहन पर हमला न कर दे।

Leave a Reply