बादल गरजे

घनन घनन घन बादल गरजे
बिजली चम-चम-चम,
हाथ उठाकर धरती बोली
बरसो जितना दम ।

नदिया चढ़ी, सरोवर बोले
भूल किनारों से,
प्यार बढ़ाओ
बात करो इन उच्छल धारों से ।

प्रखर चुनौती खड़ी सामने
आँक रही दम खम ।

फुनगी चढ़े पात-पात यूँ
करते गुपचुप बात,
इंद्रधनुष की पहन ओढ़नी
निकली है बरसात ।

अधगीली मिट्टी में अँखुआ
नाचे छम-छम-छम।

अँगड़ाई ले उठा गाँव
कि अधमुरझाए पेड़,
हवा बावरी वन-वन डोले
रस की मार चपेड़ ।

झूम झूम कर कहे जिंदगी
जग है, जग से हम ।

बूँद-बूँद कर रिसता पानी
मन में अगन भरे
मनभावन की सुधि नैनन में
सौ-सौ रूप धरे ।

घन, बरसो पिय के आँगन
पर कहना दुःख कम-कम ।
घनन घनन घन बादल गरजे
बिजली चम-चम-चम ।

Leave a Reply