प्रकृति

न कोई फल था
न ख़ुशबू
न कोई साया था
जड़ों में पेड़ की
कोई आदमी समाया था।

Leave a Reply