व्यवस्था

शिवलिंग-सी
सदियों से
मान्य, पूज्य
किन्तु जड़
निस्तेज
निष्क्रिय
निर्वीर्य!

Leave a Reply