दिल को हम कब उदास करते हैं

दिल को हम कब उदास करते हैं
आज भी उनकी आस करते हैं

हमको ढूँढ़ो नहीं मकानों में
हम दिलों में निवास करते हैं

पहले खुद ही उदास रहते थे
अब वो सबको उदास करते हैं

चढ़के काँधों पे हो गए ऊँचे
इस तरह भी विकास करते हैं

इत्तिफ़ाकन निगाह उट्ठी थी
लोग क्या-क्या क़यास करत हैं

Leave a Reply