उड़ गए बालो-पर उड़ानों में…

उड़ गए बालो-पर उड़ानों में

सर पटकते हैं आशियानों में ।
जल उठेंगे चराग़ पल-भर में

शिद्दतें चाहिएँ तरानों में ।
नज़रे बाज़ार हो गए रिश्ते

घर बदलने लगे दुकानों में ।
धर्म के नाम पर हुआ पाखंड

लोग जीते हैं किन गुमानों में ।
कट गए बालो-पर, मगर हमने

नक्श छोड़े हैं आसमानों में ।
वलवले सो गए जवानी के

जोश बाक़ी नहीं जवानों में ।
बढ़ गए स्वार्थ इस क़दर ‘देवी’

घर बँट गया कई घरानों में ।

Leave a Reply