उम्मीद

बचपन में दादी के
झुर्रीदार चेहरे को
अपनी कोमल हथेलियों से छूकर
मैंने हमेशा यही महसूस किया-
कि ज़िंदगी जब
कांटों के बीच खड़ी होती है
उस वक़्त उसकी उम्र
बहुत बड़ी होती है

बचपन में मुझे भी जीवन
बहुत भला लगता था
आँखों में हमेशा
इंद्रधनुष खिला रहता था

मगर अब मेरी हथेलियाँ
उतनी मुलायम नहीं रहीं
ज़िंदगी के नाम पर आँखों में
एक अजीब सी दहशत समाई है
लगता है, दादी के चहरे की झुर्रियाँ
मेरी हथेलियों पर उतर आई हैं

एक दिन जब तपती हुई धूप में
गुलमोहर खिलखिलाया
तो मेरे मन में विश्वास का
एक अंकुर लहलहाया-
कि ज़िंदगी अब भी
उतनी बड़ी हो सकती है
और दुखों की तपती हुई धूप में
गुलमोहर की तरह हेँसते हुए
खड़ी हो सकती है

Leave a Reply