सुधाकर से मुख बानि सुधा मुसकानि सुधा दरसै रदपाँति

सुधाकर से मुख बानि सुधा मुसकानि सुधा दरसै रदपाँति ।
प्रवाल से पानि मृनाल भुजा कहि देव लता तन कोमल कान्ति ।
नदी त्रिवली कदली युग जानु सरोज से नैन रहे रस माँति ।
छिनौ भरि ऎसी तिया बिछुरे छतिया सियराय कहौ केहि भाँति ।

Leave a Reply