वा चकई को भयो चित चीतो चितौत चँहु दिसि चाय सों नाँची

वा चकई को भयो चित चीतो चितौत चँहु दिसि चाय सों नाँची ।
ह्वै गई छीन छपाकर की छवि जामिनि जोन्ह मनौ जम जाँची ।
बोलत बैरी बिहंगम देव संजोगिनि की भई संपति काँची ।
लोहू पियो जु वियोगिनी को सु कियो मुख लाल पिसाचिनि प्राची।

Leave a Reply