मूरति जो मनमोहन की मनमोहनी के थिर ह्वै थिरकी सी

मूरति जो मनमोहन की मनमोहनी के थिर ह्वै थिरकी सी ।
देव गुपाल को बोल सुनै सियराति सुधा छतियाँ हिरकी सी ।
नीके झरोखा ह्वै झाँकि सकै नहिँ नैनन लाल घटा घिरकी सी ।
पूरन प्रीति हिये हिरकी खिरकी खिरकीन फिरै फिरकी सी ।

Leave a Reply