माखन सो मन दूध सो जोबन है दधि ते अधिकै उर ईठी

माखन सो मन दूध सो जोबन है दधि ते अधिकै उर ईठी ।
जा छवि आगे छपा करु छाछ समेत सुधा बसुधा सब सीठी ।
नैननु नेह चुवै कवि देव बुझावत बैन बियोगि अँगीठी ।
ऎसी रसीली अहीरी अहो कहौ क्योँ न लगै मन मोहनै मीठी ।

Leave a Reply