भेष भये विष भावै न भूषन भूख न भोजन की कछु ईछी

भेष भये विष भावै न भूषन भूख न भोजन की कछु ईछी ।
देवजू देखे करै बधु सो मधु दूध सुधा दधि माखन छीछी ।
चँदन तौ चितयो नहिँ जात चुभी चित माँहि चितौनि तिरीछी ।
फूल ज्योँ सूल सिला सम सेज बिछौननि बीच बिछी मनौ बीछी ।

Leave a Reply