पीत रँग सारी गोरे अँग मिलि गई देव

पीत रँग सारी गोरे अँग मिलि गई देव ,
श्रीफल उरोज आभा आभासै अधिक सी ।
छूटी अलकनि छलकनि जल बूँदनि की ,
बिना बेँदी बँदन बदन सोभा बिकसी ।
तजि तजि कुँज पुँज ऊपर मधुप गुँज ,
गुँजरत मधुप रव बोलै बाल पिक सी ।
नीबी उकसाइ नेकु नयन हँसाइ हँसि ,
ससिमुखी सकुचि सरोबर तैँ निकसी ।

Leave a Reply