धार मैँ धाय धँसी निरधार ह्वै जाय फँसी उकसी न अँधेरी

धार मैँ धाय धँसी निरधार ह्वै जाय फँसी उकसी न अँधेरी ।
री अँगराय गिरी गहिरी गहि फेरे फिरीँ न घिरीँ नही घेरी ।
देव कछू अपनो बसु ना रस लालच लाल चितै भईँ चेरी ।
बेगि ही बूड़ि गई पँखियाँ अँखियाँ मधु की मखियाँ भई मेरी ।

Leave a Reply