जोबन के रँग भरी ईँगुर से अँगनि पै

जोबन के रँग भरी ईँगुर से अँगनि पै ,
ऎँड़िन लौँ आँगी छाजै छबिन की भीर की ।
उचके उचौ हैँ कुच झपे झलकत झीनी ,
झिलमिल ओढ़नी किनारीदार चीर की ।
गुलगुले गोरे गोल कोमल कपोल ,
सुधाबिन्दु बोल इन्दुमुखी नासिका ज्योँ कीर की ।
देव दुति लहराति छूटे छहरात केस ,
बोरी जैसे केसरि किसोरी कसमीर की ।

Leave a Reply