कोऊ कहौ कुलटा कुलनि अकुलानि कहौ

कोऊ कहौ कुलटा कुलनि अकुलानि कहौ ,
कोऊ कहौ रँकिनि कलँकिनि कुनारी हौँ ।
तैसो नरलोक बरलोक परलोकनि मैँ ,
कीन्ही हौँ अलीक लोक लीकनि ते न्यारी हौँ ।
तन जाउ मन जाउ देव गुरुजन जाउ ,
प्रान किन जाउ टेकु टरत न टारी हौँ ।
बृंदावनवारी बनवारी के मुकुटवारी ,
पीत पटवारी वहि मूरति पै वारी हौँ ।

Leave a Reply