कुन्दन से अँग नवयौवन सुरँग उतै

कुन्दन से अँग नवयौवन सुरँग उतै ,
उरज उतँग धन्य प्यारो परसत है ।
सोहत किनारी वारी तन सुख सारी देव ,
सीस सीसफूल अधखुल्यो दरसत है ।
बेँदिया जड़ाऊ बड़े मोतिन सो नीकी नथ ,
हँसति हन्योननि तेँ रूप सरसत है ।
गारी गजगौनी लोनी नवल दुलहिया के ,
भाग भरे मुख पै सुहाग बरसत है ।

Leave a Reply