प्रेम-2

मैं भर लूँ उडान
ऊँचे-नीले अथाह आसमान में
और अक्षरों की वर्षा हो

जो तुमसे लिये हुए हैं
और तुमको ही है समर्पित

कभी तारों
और कभी मोतियों की तरह।

Leave a Reply