समय-2

समय की रेतघड़ी में
मोह की बारिश खो गई कहीं

हर घर में पसर गया मौन
छा गया अंधेरा

मेरा राम तुम्हारा रहीम
दोनों गुनहगार हो गए।

Leave a Reply