बोध

जब मिली धरती
आकाश से

जब बने बादल
जब निपजे
खेत में धान के मोती

जब जन्मा शिशु
माँ की कोख से

तो मुझे हुआ बोध
अपने होने का।

Leave a Reply