आहा!

टुकड़ा-टुकड़ा धूप
सर्दी की

बूंद-बूंद खुशियाँ
और
आँसू-आँसू प्यास

दाना-दाना भूख

सचमुच
ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है.

Leave a Reply