आप-2

आपकी ख़ुशबू
आपकी आवाज़
आपका अहसास

जैसे नए फूल हों
मौसम के

जो भर देते हैं निनाद
ज़िन्दगी में।

Leave a Reply